Tuesday, 22 January 2019, 4:58 PM | होम

धर्म कर्म

भगवान विष्णु ने दिखाई ऐसी माया, चांडाल बन गया राजा

Updated on 3 December, 2018, 6:40
योगाचार्य सुरक्षित गोस्वामी गुरु वशिष्ठ, श्रीराम को गाधी ब्राह्मण की कथा सुनाते हैं कि गाधी के मन में माया को जानने की इच्छा हुई, इसलिए वो विष्णु की उपासना करने लगा। भगवान प्रसन्न हुए और तथास्तु कहा। कुछ दिनों बाद गाधी ने गंगा स्नान करते हुए जैसे डुबकी लगाई, तभी अनुभव... आगे पढ़े

अफलातून ने बताया है जीवन का सबसे बड़ा सच, आप भी जानें क्‍या है यह?

Updated on 3 December, 2018, 6:20
यूनानी दार्शनिक अफलातून के पास हर दिन कुछ लोग ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते थे। लेकिन वह खुद को कभी ज्ञानी नहीं मानते थे। उनका मानना था कि इंसान कभी भी ज्ञानी कैसे हो सकता है, वह तो हमेशा सीखता ही रहता है। एक दिन उनके एक मित्र ने... आगे पढ़े

क्यों नहीं करते एक ही गोत्र में विवाह, यहां जानें कारण

Updated on 2 December, 2018, 6:20
सनातन धर्म में गोत्र का बहुत महत्व है। विशेषकर पूजा-पाठ और विवाह के दौरान गोत्र का बहुत महत्व होता है। वैदिक रीति के अनुसार यदि विवाह करना है तो बिना गोत्र जाने, विवाह संस्कार नही करना चाहिए। आइए, गोत्र का इतना महत्व क्यों है और क्यों एक ही गोत्र में... आगे पढ़े

इस तरह हुआ था ब्रह्मांड का विकास और होगा लीन

Updated on 1 December, 2018, 6:30
प्रथम स्तर में मनुष्य जब पांचभौतिक जगत से मन को हटाता है, उस अवस्था में पूर्ण रूप से न सही, आंशिक रूप से पांचभौतिक जगत पर मनुष्य का आधिपत्य हो जाता है। इस अवस्था में मनुष्य किसी हद तक जगत का कल्याण कर सकता है। अगर कोई न करे या... आगे पढ़े

जब भगवान ने ऐसे खत्म किया अब्राहम का अहंकार

Updated on 30 November, 2018, 6:40
 मुसलमानों, यहूदियों और ईसाइयों के पितृ-पुरुष अब्राहम, जिन्हे मुसलिम इब्राहिम के नाम से संबोधित करते हैं, ने अपने जीवन में एक सिद्धांत बना रखा था कि किसी भूखे को भोजन खिलाए बिना वो स्वयं कभी भोजन ग्रहण नहीं करेंगे। इसलिए जब तक वह किसी को खाना खिला नहीं देते, तब... आगे पढ़े

मनुष्य जीवन में हम केवल इस देवता का कर सकते हैं दर्शन

Updated on 30 November, 2018, 6:20
एक इंटरव्यू में मौजूद उम्मीदवारों से एक कॉमन सवाल पूछा गया कि सृष्टि में ऐसा कौन है जो सब पर समान दृष्टि रखता है? पूरी दुनिया हर दिन उसका इंतज़ार करती है? इस सवाल ने हर किसी को भ्रमित कर दिया। सभी अपनी-अपनी नजर इधर-उधर दौड़ाने लगे और सोच-विचार में... आगे पढ़े

वैष्णो देवी जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए खुशखबरी, यात्रा को आसान बनाएगा 'उड़न खटोला'

Updated on 29 November, 2018, 9:30
जम्मू : वैष्णो देवी भवन-भैरों यात्री रोपवे का काम अंतिम चरण में है और बहुत जल्द इसके चालू होने की संभावना है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि विशेषज्ञों का एक दल अंतिम परीक्षण और सुरक्षा संबंधी अन्य जांच कर रहा है. रोप-वे के सहारे सिर्फ तीन मिनट में वैष्णो... आगे पढ़े

केसर का असर: बिगड़ी किस्मत को संवारकर पा सकते हैं राजयोग

Updated on 29 November, 2018, 7:00
वैदिक ज्योतिष के अनुसार, ज्ञान, विद्या और सौभाग्य देनेवाला ग्रह है बृहस्पति। साथ ही अच्छी सेहत के लिए भी बृहस्पति का अच्छा होना जरूरी माना जाता है। कहा जाता है कि यदि व्यक्ति की कुंडली में बृहस्पति अनुकूल स्थिति में न हो तो उसे जीवनभर मान-सम्मान और संपत्ति के अभाव का... आगे पढ़े

इस वजह से सुविधाएं होने के बाद भी नहीं मिलता वक्त

Updated on 29 November, 2018, 6:45
सब कुछ है बस वक्त नहीं है। जिससे पूछिए, वह व्यस्तता के इतने पन्ने खोल देगा कि आप तौबा कर लें। छोटा बच्चा हो या आसमान ताकता कोई बूढ़ा, दोनों कहते मिल जाएंगे कि हम बिजी हैं। हमारे पास अब इतनी फुर्सत ही नहीं कि कुछ और सोच पाएं। नौकरी... आगे पढ़े

यहां 14 पति की आयु के बराबर होती है एक पत्नी की उम्र, ऐसा अजब है नियम

Updated on 29 November, 2018, 6:15
14 पति के बराबर पत्नी की उम्र यह सुनने में अटपटा लग सकता है लेकिन जब मैल से असुर का जन्म हो सकता है और पसीने की बूंद से हनुमानजी को पुत्र प्राप्त हो सकता है तो ऐसा होना भी आश्चर्य की बात नहीं है। और जब यह बात स्वयं... आगे पढ़े

अफलातून ने बताया है जीवन का सबसे बड़ा सच, आप भी जानें क्‍या है यह?

Updated on 28 November, 2018, 6:20
यूनानी दार्शनिक अफलातून के पास हर दिन कुछ लोग ज्ञान प्राप्त करने के लिए आते थे। लेकिन वह खुद को कभी ज्ञानी नहीं मानते थे। उनका मानना था कि इंसान कभी भी ज्ञानी कैसे हो सकता है, वह तो हमेशा सीखता ही रहता है। एक दिन उनके एक मित्र ने... आगे पढ़े

एक सपने ने ऐसे राजा जनक को भोगी से बना दिया योगी

Updated on 27 November, 2018, 6:45
मल्टीमीडिया डेस्क। राजा जनक के बारे में कहा जाता है कि वह अक्सर भोग-विलास में लिप्त रहते थे। एक बार राजा जनक सो रहे थे तभी उन्होंने सपना देखा कि शत्रु देश की प्रबल सेना ने उनकी राजधानी मिथिला पर आक्रमण कर दिया है। युद्ध में शत्रुसेना की विजय हुई... आगे पढ़े

मोक्ष पाने के लिए करें इन चीजों का त्याग, तभी मिलता है आध्यात्मिक जीवन

Updated on 27 November, 2018, 6:15
कुछ लोग इतने व्यवहार कुशल और शांत चित्त होते हैं कि हर कोई उनसे मिलने के बाद पॉजिटिव एनर्जी से भरा महसूस करता है। लोगों का यह विलक्षण स्वभाव उनके अंतर्मन में मौजूद आध्यात्मिकता को उजागर करता है। यह आम धारणा है कि अध्यात्म का मतलब सब कुछ छोड़-छाड़कर जंगल... आगे पढ़े

वाहनों से जानें अपने आराध्य देवता को

Updated on 26 November, 2018, 6:45
पौराणिक ग्रंथों में अनेक देवी-देवताओं का जिक्र मिलता है। उनकी हर खूबी, हर विशेषता के साथ-साथ उनकी जीवन लीला और अवतारों का भी उल्लेख प्राप्त होता है। इसके साथ-साथ हरेक के बारे में विस्तृत जानकारी भी मिलती है। खासतौर उनकी पसंद का रंग, खाना, फूल, वाद्ययंत्र, वाहन आदि। इन सबके... आगे पढ़े

श्रीकृष्ण ने बनवाया था अयोध्या में यह राम मंदिर, जानें खास बातें

Updated on 26 November, 2018, 6:30
अयोध्या भगवान राम की जन्मस्थली। रामचरित मानस के अनुसार त्रेतायुग में भगवान विष्णु ने राम के रूप में यहां अवतार लिया था और राक्षसों के आतंक से मनुष्यों की रक्षा करके धर्म की स्थापना की थी। सरयू नदी के तट पर बसे अयोध्या नगरी पर भगवान राम ने कई वर्षों... आगे पढ़े

मेवाड़ की रग-रग में बहता रहा स्वाभिमान और आत्मसम्मान, एक किस्सा

Updated on 25 November, 2018, 6:45
मेवाड़ के राजा-महाराजाओं के ही नहीं, वहां के जन-जन के साहस एवं स्वाभिमान के किस्से दुनिया में चर्चित हैं। कहा जाता है, हर मेवाड़ी मातृभूमि की रक्षा और स्वाभिमान के लिए अपनी जान देने को तैयार रहता है। एक बार मेवाड़ के राज परिवार से जुड़ा एक चारण अकबर के... आगे पढ़े

इसलिए महाभारत के युद्ध में भगवान कृष्ण ने तोड़ा था अपना वचन

Updated on 25 November, 2018, 6:15
चंचल मन एक बार कोई फैसला ले भी ले तो उस पर अधिक समय तक टिका नहीं रहता और उसे बदलने के विचार मन को मथते रहते हैं। कई बार हमारे पास जो विकल्प होते हैं, उनमें अंतर बहुत कम का होता है और जब भी दो में से एक... आगे पढ़े

क्यों लक्ष्मी की बहन अलक्ष्मी को लोग नहीं करते पसंद?

Updated on 24 November, 2018, 7:00
हर कोई चाहता है उसके घर में हमेशा लक्ष्मी का वास हो, ताकि उसके जीवन में कभी पैसों संबंधी कोई कमी न हो। परंतु माता लक्ष्मी तो चंचला देवी हैं, इसलिए ये कभी किसी जगह पर स्थिर नहीं रहती। कहा जाता है जब लक्ष्मी एक स्थान से चली जाती है... आगे पढ़े

गंडमूल नक्षत्रों में जन्म लेने वाले बच्चे, Lucky या Unlucky

Updated on 24 November, 2018, 6:30
बच्चे के जन्म के पश्चात सर्वप्रथम लोग यही देखते हैं कि बच्चे का जन्म गंडमूलों में तो नहीं हुआ है? अगर यह मालूम चले कि गंडमूलों में जन्म हुआ है तो अक्सर परिवार के सभी सदस्य घबरा जाते हैं क्योंकि मूलों में जन्म शुभ नहीं माना जाता। क्या कारण है... आगे पढ़े

क्यों बनारस की देव दीपावली है सबसे स्पेशल

Updated on 23 November, 2018, 6:45
हिंदू धर्म में कार्तिक मास को बहुत महत्व दिया जाता है। इस दिन को अधिक पावन और शुभ माना जाता है। इतना ही नहीं कहते हैं कि कार्तिक पूर्णिमा का ये दिन हिंदू धर्म के सभी त्योहारों में से एक प्रमुख त्योहार बताया गया है। कार्तिक पूर्णिमा का ये त्योहार... आगे पढ़े

Career को लेकर रहते हैं परेशान तो बैकुंठ चतुर्दशी पर करें ये काम

Updated on 22 November, 2018, 7:00
बुधवार दिनांक 21.11.18 कार्तिक शुक्ल चौदस पर बैकुंठ चतुर्दशी मनाई जाएगी। बैकुंठ चतुर्दशी का वर्णन शास्त्र निर्णयसिन्धु, स्मृतिकौस्तुभ व पुरुषार्थ चिंतामणि में बताया गया है। कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी को स्वयं श्रीहरि ने वाराणसी में स्नान करके पाशुपत व्रत करके विश्वेश्वर की पूजा अर्चना की थी। श्रीहरि ने एक हजार स्वर्ण... आगे पढ़े

इस तरह बंद हुए बदरीनाथ के कपाट, अब यहां होगी पूजा

Updated on 21 November, 2018, 6:45
श्री बदरीनाथ धाम के कपाट मंगलवार 20 नवंबर को शायंकाल 3 बजकर 21 मिनट पर बंद हो गए। इस अवसर पर श्री बदरीनाथ मंदिर को भव्य रूप से सजाया गया था। कपाट बंद होने के अवसर पर दर्शन के लिए करीब 5237 तीर्थयात्री पहुंचे थे। जबकि पूरे यात्रा वर्ष में... आगे पढ़े

जब एक राजा को बीच मझधार में छोड़ गई अप्सरा

Updated on 20 November, 2018, 6:40
हिंदू धर्म एक एेसा धर्म है जिसमें अनगिनत पौराणिक कथाएं पढ़ने-सुनने को मिलती है। इन कथाओं आदि से इंसान को हिंदू धर्म के देवी-देवताओं, राजा-महाराजओं, यौद्धाओं और अप्सराओं का वर्णन मिलता है। तो आज हम आपके लिए हिंदू धर्म की एक बहुत ही दिलचस्प पौराणिक कथा के बारे में बताने... आगे पढ़े

क्या वाकई बाबरी विध्वंस में बजरंगबली ने अपनी भूमिका निभाई ?

Updated on 19 November, 2018, 6:45
हम आपको रोज़ाना कई एेसे धार्मिक किस्सों के बारे में बताते हैं जिसके बारे में बहुत से लोगों को जानकारी होती है तो बहुत से लोग उस जानकारी से अंजान भी होते हैं। लेकिन आज हम आपको एक एेसे प्रसंग के बारे में बताने जा रह हैं, जिसका शायद हम... आगे पढ़े

आख़िर किस वजह से शनि और सूर्य में नहीं बनती?

Updated on 18 November, 2018, 6:15
हिंदू धर्म के ग्रथों आदि में हर देवी-देवता से संबंधित कई कथाएं पढ़ने को मिलती है। इतना ही नहीं इसमें देवी-देवता के साथ-साथ समस्त ग्रहों के गुरू यानि देवों के बारे में बहुत सी कथाएं वर्णित है, जिसके द्वारा हम उनके बारे में जान सकते हैं। तो आइए आज बात... आगे पढ़े

आखिर क्यों श्रीकृष्ण को लेनी पड़ी विदुर के घर में पनाह ?

Updated on 17 November, 2018, 6:20
जब भी हम महाभारत की बात करते हैं तो ज़ुबान पर श्रीकृष्ण का नाम ज़रूर आता है। पौराणिरक मान्यताओं के अनुसार श्रीकृष्ण की ही वजह से अर्जुन महाभारत का युद्ध जीत पाया था क्योंकि श्रीकृष्ण अर्जुन के सारथी बने थे। अब क्योंकि श्रीकृष्ण अर्जुन के सारथी थे, तो ज़ाहिर सी... आगे पढ़े

जब महादेव ने स्वयं दिया मनुपुत्र को ज्ञान

Updated on 16 November, 2018, 6:20
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार मनुपुत्र नभग का पुत्र था नाभाग। कई वर्ष बाद जब वह अपने ब्रह्मचर्य जीवन का पालन करके लौटा तब उसके बड़े भाईयों ने उसे उसके हिस्से में केवल पिता को दिया। क्योंकि सम्पत्ति तो उन्होंने पहले ही आपस में बांट ली थी। उसने अपने पिता से... आगे पढ़े

क्यों श्रीहरि ने माता लक्ष्मी को दिया श्राप?

Updated on 15 November, 2018, 6:15
हिंदू धर्म के धार्मिक ग्रंथों में भगवान विष्णु और लक्ष्मी से जुड़ी हुई बहुत सी कथाएं प्रचलित हैं। उन्हीं में से एक के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। इस कथा का संबंध दिवाली से पहले आने वाले पर्व धनतेरस से जुड़ा हुआ है। इस पौराणिक कथा... आगे पढ़े

गायत्री मंत्र का प्राण है यह शब्द, अध्यात्म से भर देगा इसका अर्थ और महत्व

Updated on 14 November, 2018, 7:20
गायत्री मंत्र में सविता शब्द बहुत महत्वपूर्ण अर्थ रखता है। यही इस मंत्र का प्राण है। पूरे गायत्री में सविता ही अधिष्ठान है। शब्द की दृष्टि से भी सविता बहुआयामी अर्थ का द्योतक है। सविता केवल प्रकाशवान ही नहीं है, अपितु सृष्टा, पोषक, रक्षक व दाता है। गायत्री महाविद्या के... आगे पढ़े

कोई भी फैसला लेने से पहले ज़रूर करें ये काम

Updated on 14 November, 2018, 6:20
एक समय की बात है। एक संत प्रात:काल भ्रमण के लिए समुद्र के तट पर पहुंचे। समुद्र के तट पर उन्होंने एक पुरुष को देखा जो एक स्त्री की गोद में सिर रख कर सोया हुआ था। पास में शराब की खाली बोतल पड़ी हुई थी। संत बहुत दुखी हुए।... आगे पढ़े

अपना बालाघाट


Powered By JSK Technosoft